कोर्स वर्क में उलझे पीएससी के आवेदक, बगैर कोर्स वर्क के नहीं भर पा रहे फार्म

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी सहित प्रदेश के तमाम विश्चविद्यालयों में 1 जून 2009 के पहले पीएचडी में रजिस्टर्ड छात्र पीएससी की सहायक प्राध्यापक परीक्षा के लिए आवेदन नहीं कर पा रहे हैं। इस रेग्यूलेशन के मुताबिक 1 जून 2009 के बाद पीएचडी रजिस्ट्रेशन कराने वालों को कोर्स वर्क करना अनिवार्य है लेकिन इससे पहले रजिस्ट्रेशन कराने वाले छात्रों को कोर्स वर्क करने की अनिवार्यता नहीं है। पीएससी ने इस नियमों को दूसरे तरीके से मानकर 2009 के बाद अवार्ड होने वाली पीएचडी डिग्री में कोर्स वर्क अनिवार्य मान लिया है। इसके चलते परीक्षा का ऑनलाइन आवेदन भरने के दौरान यदि कोर्स वर्क नहीं करने संबंधी विकल्प पर क्लिक करने पर फार्म सबमिट नहीं हो रहा है। यूनिवर्सिटी और पीएससी में उलझा छात्रों का भविष्य : सहायक प्राध्यापकों के खाली पदों पर भर्ती के लिए छात्रों का भविष्य देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी और लोकसेवा आयोग के बीच उलझ गया है। यूनिवर्सिटी का कहना है कि 1 जून से 2009 से पहले पीएचडी में रजिस्टर्ड छात्रों को कोर्स वर्क करने की अनिवार्यता नहीं है। अगर छात्रों की इच्छा है तो वे कोर्स वर्क कर सकते है लेकिन इसके लिए उन्हें सर्टिफिकेट नहीं दिया जाएगा। वहीं दूसरी ओर यूनिवर्सिटी की तरफ से आज तक कोर्स वर्क की अनिवार्यता न होने संबंधी पत्र जारी नहीं किया गया है। वही लोक सेवा आयोग का कहना है कि सरकार की तरफ से मिले निर्देशों में 2009 को बाद अवार्ड हुई पीएचडी में कोर्स वर्क होना अनिवार्य बताया गया है। इसीलिए भले ही 2009 के पहले पीएचडी में रजिस्ट्रेशन हुआ हो लेकिन यदि डिग्री २००९ के बाद अवार्ड हुई है तो कोर्स वर्क जरूरी है। हालांकि पीएससी ने इस संबंध में उच्च शिक्षा विभाग को पत्र लिखकर दिशा निर्देश मांगे हैं। यह है यूजीसी का 2009 का रेग्यूलेशन : यूजीसी से आए अध्यादेश के बाद 1 जून 2009 को पीएचडी के लिए 2009 रेग्यूलेशन बनाया गया है। इसके तहत जो पीएडी के लिए पहले इंट्रेंस टेस्ट पास करना अनिवार्य हो गया है। इसके बाद डीआरसी होगी। इसमें इंट्रेंस टेस्ट में पास उम्मीदवारों को पीएचडी की खाली सीटों की संख्या के आधार पर इंटरव्यू के माध्यम से चुना जाएगा। चुने गए कैंडीडेट्स को छह महीने का कोर्स वर्क करना अनिवार्य होगा। यानि कोर्स वर्क पीएचडी की पहली स्टेज होगी। इसके बाद ही पीएचडी की रिसर्च का काम शुरू किया जा सकेगा। 25 साल बाद निकली है सामान्य वर्ग की भर्ती : गौरतलब है कि सहायक प्राध्यापकों की भर्ती के लिए पीएससी द्वारा 1981 के बाद से अब निकली है। पिछले 25 सालों में सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों की भर्ती नहीं हुई है, सिर्फ बैकलॉग के पदों पर ही भर्ती होती रही है। पीएससी की इस परीक्षा के लिए आवेदन करने की आखिरी तारीख 20 अगस्त है लेकिन इंदौर के 450 और प्रदेश भर के सैडको छात्रों को अब तक यही स्थिति ही स्पष्ट नहीं हो पायी है कि वे आवेदन कर भी पाएंगे या नहीं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...