रसोई गैस: 31 तक खाता लिंक नहीं तो सब्सिडी खतरे में

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इंदौर. रसोई गैस कनेक्शन की सब्सिडी सीधे खाते में देने के लिए शुरू हुई केंद्र की कैश सब्सिडी (डायरेक्टर बेनीफिट ट्रांसफर स्कीम- पहल) योजना के तहत जिले में मात्र 34 फीसदी ग्राहक ही जुड़े हैं। जिले के पिछड़ने के कारण अब प्रशासन ने गैस एजेंसियों को निर्देश दिए हैं कि 31 जनवरी तक जो ग्राहक इस योजना से नहीं जुड़ता है या इसके लिए आवेदन नहीं करता है तो उसे फरवरी माह में सिलेंडर नहीं दिया जाए।

जो इस योजना से जुड़ते हैं उन्हें बिना वेटिंग के तत्काल सिलेंडर दिया जाएगा। यह फैसला सोमवार को कलेक्टोरेट में सभी गैस एजेंसियों के प्रतिनिधियों, गैस कंपनियों के अधिकारियों के साथ हुई बैठक में लिया गया।

कलेक्टर आकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में हुई बैठक में गैस कंपनियों के अधिकारियों ने बताया कि जिले में 8.69 लाख रसोई गैस ग्राहक हैं, जिसमें से मात्र 2.95 ग्राहक ही इस योजना से जुड़े हैं। बैठक में सर्वसम्मति से फैसला लिया गया कि 31 जनवरी, 2015 तक अपने गैस कनेक्शन आधार या बैंक खाते से लिंक नहीं करवाने वाले उपभोक्ताओं को फरवरी 2015 से गैस सिलेंडर प्रदाय नहीं किया जाए।
(कार्यालयीन समय पर)

790 रुपए के सिलेंडर में 311 रुपए है सब्सिडी की राशि
इस योजना से जुड़ते ही आपके बैंक खाते में 568 रुपए आ जाएंगे। इसके बाद जब सिलेंडर आपको मिलेगा तो उसके दाम बाजार भाव ( जो अभी 790 रुपए प्रति सिलेंडर है) देना होंगे, बदले में सब्सिडी राशि (311.53 रुपए) आपके खाते में तीन-चार दिन में आ जाएगी।

योजना से जुड़ने के लिए फॉर्म-4 भरें व एजेंसी पर जमा कराएं
ग्राहकों को फॉर्म 4 भरकर गैस एजेंसी को देना है, फार्म के साथ ही बैंक पास बुक, कैंसिल चेक के दस्तावेज और गैस कनेक्शन की फोटोकॉपी सलंग्न करना है। तीन-चार दिन में आपका कनेक्शन बैंक खाते से लिंक हो जाएगा।

समस्या आने पर गैस एजेंसी से या टोल फ्री नंबर 1800-2333-555 पर भी जानकारी ली जा सकती है। वेबसाइट www.mylpg.in से भी जानकारी ले सकते हैं।

कलेक्टोरेट में भी बनेंगे आधार कार्ड, शिविर इसी सप्ताह से
समीक्षा में यह भी बताया गया कि आधार कार्ड कम जगहों पर बनने के कारण आम व्यक्ति परेशान हो रहा है। इसे देखते हुए कार्ड बनाने के लिए नियुक्त हुई नई कंपनी आईसेक्ट के रीजनल मैनेजर जितेंद्र पाण्डे को कलेक्टोरेट, खजराना मंदिर व अन्य जगहों पर भी दफ्तर खोलने के निर्देश दिए गए। पाण्डे ने बताया कि कलेक्टोरेट में जगह देखकर इसी सप्ताह आधार कार्ड बनाने के लिए मशीन लगा देंगे।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...