14 जगह फिर शुरू होंगे 23 लाख के 56 कैमरे, सामाजिक संस्था ने दिए थे ये कैमरे

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इंदौर. सामाजिक संस्था कला अभिव्यक्ति द्वारा पुलिस को दिए गए 23 लाख रुपए के 56 कैमरे फिर शुरू होंगे। भास्कर द्वारा बंद कैमरों का मुद्दा उठाए जाने के बाद कैमरे लगाने वाली कंपनी मुफ्त में एक बार मेंटेनेंस करने को तैयार हो गई है। इसके बाद पुलिस कैमरों को नए सिस्टम से जोड़ने की प्रक्रिया शुरू करेगी।

ये कैमरे 14 जगह लगाए गए हैं। कैमरे लगाने वाली सुखमनी सेफ्टी सॉल्यूशन्स के जसदीप छाबड़ा ने बताया हमने कॉन्ट्रेक्ट के मुताबिक एक साल तक इन कैमरों का मेंटेनेंस किया। बाद में एक साल और मुफ्त में किया, लेकिन कॉन्ट्रेक्ट रिन्यू नहीं हो सका। कैमरे अच्छी हालत में हैं, लेकिन किसी की केबल टूटी है तो किसी की पॉवर सप्लाय गड़बड़ है। हम दोबारा कैमरे चालू कर पुलिस को हैंडओवर करेंगे।
यहां धूल खा रहे हैं कैमरे
रीगल, रेलवे स्टेशन, हाई कोर्ट, एयरपोर्ट, राजबाड़ा, गंगवाल बस स्टैंड, विजय नगर, महू नाका, गीता भवन, कालानी नगर, सरवटे बस स्टैंड, टॉवर चौराहा, मधुमिलन व पलासिया पर चार-चार कैमरे लगे हैं।
एक चौराहे पर 1.60 लाख खर्च
एक चौराहे पर कैमरे लगाने की लागत 1.60 लाख रुपए आई है। वहां साउंड सिस्टम, रिकॉर्डर भी लगाए गए हैं। इन सभी का इस्तेमाल मामूली खर्च पर किया जा सकता है। हर कैमरा 18 हजार रुपए का और अच्छी क्वालिटी का है।
… तो दूसरी जगह लगा देंगे
डीआईजी राकेश गुप्ता ने बताया कंपनी कैमरों को चालू कर रही है तो यह अच्छी बात है। जहां कैमरे लगे हैं, उनमें से कुछ जगह नए कॉन्ट्रेक्ट के तहत सर्विलेंस और आरएलवीडी कैमरे लग रहे हैं।
हम कैमरा लगा रही कंपनी टेक्नोसिस से बात करेंगे कि पुराने कैमरों का नए सॉफ्टवेयर में इस्तेमाल किया जा सकता है या नहीं? कनेक्टिविटी मिल गई तो ठीक, नहीं तो इन कैमरों को दूसरी जगह लगाया जाएगा।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...