शिवमुनि बोले- सरकारें आती-जाती हैं गृहमंत्रीजी, आप गोरक्षा कानून बनाएं

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

इंदौर. दशहरा मैदान पर चतुर्विध संघ सम्मेलन में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथसिंह की उपस्थिति में गोरक्षा कानून पर संवाद हुआ। इसकी शुरुआत आचार्य सम्राट डॉ. शिवमुनि ने की। अपने प्रवचन में उन्होंने कहा- गृहमंत्रीजी, सरकारें आती हैं, चली जाती हैं। आप गोवध पर रोक लगाएं। गोवंश की रक्षा के लिए इसी बजट सत्र में कानून बनाएं। ोजब गृहमंत्री ने अपनी बात रखी तो इसका जवाब दिया। कहा- गोहत्या रोकने के लिए कटिबद्ध हैं। गोरक्षा कानून के लिए संसद में आम सहमति बनाएंगे।

राजनाथ ने याद दिलाया- 2003 में जब मैं कृषि मंत्री था तब गोरक्षा संबंधी बिल ड्राफ्ट करवाया था। जैसे ही मैं संसद में बोलने खड़ा हुआ, हंगामा हो गया और बिल का कुछ नहीं हुआ। गोरक्षा कानून के लिए लोकसभा-राज्यसभा में बहुमत चाहिए। हमें छोटे-छोटे बिल पास करवाने के लिए लोहे के चने चबाने पड़ते हैं। उन्होंने कहा मप्र, महाराष्ट्र, गुजरात में गोवध पर प्रतिबंध है, शेष राज्यों में भी प्रतिबंध की जरूरत है। यह भी बोले शिवमुनि
– दुर्भाग्य है कि राम, कृष्ण, महावीर, गांधी के इस देश में गोहत्या हो रही है, गोमांस का निर्यात किया जा रहा है।
– गोमांस के उत्पादन, विक्रय एवं निर्यात पर जो सब्सिडी दी जा रही है, उस पर तत्काल रोक लगाना चाहिए।

अहिंसा से ही विश्व में आएगी शांति

श्वेतांबर स्थानकवासी जैन श्रमण संघीय वृहद साधु-साध्वी सम्मेलन का समापन रविवार को चतुर्विध संघ सम्मेलन के साथ दशहरा मैदान पर हुआ। 28 साल बाद हुए चतुर्विध संघ सम्मेलन में देशभर साधु-साध्वी और एक लाख से ज्यादा लोग शामिल हुए। समारोह में आचार्य शिवमुनिजी ने 51 हजार अहिंसा दूतों को देश सेवा, गोसेवा और अन्य संकल्प दिलाए।

समारोह के मुख्य अतिथि केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथसिंह थे। उन्होंने कहा जैन धर्म भारतीय संस्कृति का अनमोल रत्न है। इसका प्रमुख मार्ग अहिंसा है। अहिंसा से ही विश्व में शांति कायम हो सकती है। समारोह में मुख्यमंत्री चौहान ने कहा एक संत का दर्शन जिंदगी बदल देता है और कल्याण हो जाता है। यहां इतने सारे संतों के दर्शन से धन्य हो गए।

समारोह में विशेष अतिथि मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान, विहिप के अध्यक्ष अशोक सिंघल, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री श्रीपद यशोनाईक, भास्कर समूह के चेयरमैन रमेशचंद्र अग्रवाल, सांसद दिलीप गांधी व सत्यनारायण जटिया, नगरीय प्रशासन मंत्री कैलाश विजयवर्गीय, संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री सुरेंद्र पटवा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष नंदकुमारसिंह चौहान, महापौर मालिनी गौड़ थीं।

गृहमंत्री का स्वागत जैन कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष नेमनाथ जैन और पार्षद दीपक जैन टीनू ने किया। रमेश भंडारी, आनंदप्रकाश जैन, सुमतिलाल कर्नावट आदि ने भी अतिथि स्वागत किया। संचालन हस्तीमल झेलावत ने किया।

युवाचार्य महेंद्रऋ षि को ओढ़ाई चादर
सम्मेलन में नए युवाचार्य महेंद्रऋषिजी को केसरिया के रंग व खुशबू वाली पवित्र चादर ओढ़ाई गई। पांच सौ से अधिक साधु संतों व अन्य अतिथियों ने चादर को स्पर्शकर श्रद्दाभाव प्रस्तुत किया। दूसरे सत्र में आचार्य शिवमुनिजी ने श्रमण संघ के महामंत्री सौभाग्यमुनिजी को महाश्रमण पद से अलंकृत किया।

वैश्य समाज ने किया डॉ. शिवमुनि का सम्मान
अंतरराष्ट्रीय वैश्य महासम्मेलन की प्रदेश इकाई द्वारा आचार्य डॉ. शिवमुनि का शहर के वैश्य संगठनों की ओर से सम्मान किया गया। भास्कर समूह के चेयरमैन और अंतरराष्ट्रीय वैश्य महासम्मेलन के कार्यकारी अध्यक्ष रमेशचंद्र अग्रवाल, सत्यभूषण जैन द्वारा आचार्यश्री को अभिनंदन पत्र भेंट कर सम्मान किया गया। प्रदेश महामंत्री अरविंद बागड़ी ने बताया शहर के अग्रवाल, खंडेलवाल, नीमा, चित्तौड़ा महाजन, विजयवर्गीय, मेड़तवाल, गहोई वैश्य, माहेश्वरी एवं जैन संगठनों के प्रतिनिधि की ओर से अभिनंदन पत्र भेंट कर सम्मानित किया गया।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.

LIVE OFFLINE
Loading...