MP की पहली ग्रीन बिल्डिंग

Green-Building-1459715796

वन विभाग प्रदेश की पहली ईको फ्रेंडली इमारत का निर्माण करा रहा है। यह इमारत प्रदेश की पहली ग्रीन बिल्डिंग होगी। इसमें पानी को रीसाइकिल कर फिर उपयोग किया जाएगा। इमारत का डिजाइन ऐसा हो कि बिना एसी के पूरी इमारत ठंडी रहेगी। सोलर लाइट सिस्टम के साथ स्काय लाइट सिस्टम का भी उपयोग किया जाएगा। अगले साल मार्च तक यह इमारत तैयार हो जाएगी। एप्को इसे काजू के शेप में तैयार कर रहा है। इस डिजाइन की एशिया की यह तीसरी इमारत बताई जा रही है। इसके निर्माण के लिए वन विभाग ने पर्यटन विभाग को जिम्मेदारी दी है। कंसल्टेंसी की जिम्मेदारी एप्को को दी गई है। एप्को ने दिल्ली व बैंगलुरू की कंसलटेंसी को नियुक्त किया है। जून 2014 से इस इमारत का निर्माण शुरू हुआ था। अगस्त 2016 तक इसमें सभी मुख्यालय शिफ्ट करने का निर्णय लिया गया था। लेकिन काम समय पर पूरा नहीं हो सका। नई समय सीमा मार्च 2017 रखी गई है। इस निर्माण लागत भी बढ़कर 64 करोड़ से सौ करोड़ के आसपास हो गई है।
इमारत के बीच व आसपास के हिस्से में गार्डन भी तैयार होगा। इसे हवा के दबाव व सूरज की रोशनी के हिसाब से आकार दिया जा रहा है। यानी जिस हिस्से में सूरज की रोशन ज्यादा आती है उस हिस्से को आर्किटेक्ट तापमान व रोशनी आने के समय के हिसाब से डिजाइन किया है। इससे बिल्डिंग का तापमान मेंटेंन रहता है और गर्म हवा भी अंदर नहीं आती।
यह प्रदेश की पहली आधुनिक डिजाइन वाली ग्रीन बिल्डिंग होगी। इसे टैरी व ग्रह संस्था से ग्रीन बिल्डिंग रेटिंग दिलाई जाएगी। इसके लिए एप्को ने दिल्ली व बैंगलुरू की कंसटेंसी नियुक्त की है। इमारत में साठ प्रतिशत बिजली व पचास प्रतिशत पानी की बचत होगी।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.