वुमन सेफ्टी के लिए आगे आईं ‘मॉम्स’

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

supermom

इंदौर. आज की मॉम सुुपर मॉम है जो मां, पत्नी, बेटी और बहन का रोल बखूबी निभा रही है। वह परिवार को संभालने के साथ-साथ बाहर काम भी कर रही हैं। बतौर हाउसवाइफ और वर्र्किंग वुमन वे सोसायटी में वुमन फेटरनिटी को आगे बढ़ाने की दिशा में लगातार काम कर रही है। इसलिए वुमन सेफ्टी भी जरूरी है। इसी उद्देश्य को लेकर आईएनएमओ इंदौर मॉम्स ग्रुप ने वुमन सेफ्टी पर एक प्रोग्राम किया।
वुमन सेफ्टी पर हुई प्रोग्राम में शहर की सौ से ज्यादा मॉम्स शामिल हुई। यहां सभी मॉम्स से यूनाइट होकर यह दिखाया कि वे हर वो कार्य कर सकती हैं जो एक मेल कर करते हैं। इस मौके पर सभी ने वुमन सेफ्टी को लेकर अपने-अपने व्यूज भी शेयर किए। यहां सभी मॉम्स व्हाईट ड्रेस कोड में आईं थी और उन्होंने वुमन कैन यूनाईट स्लोगन दिए।
आईएमएमओ इंदौर ग्रुप की फाउंडर कोमल जोशी ने बताया, इस ग्रुप का उद्देश्य है वुमन अपने टेलेंट को पहचानकर काम करें। इसलिए ग्रुप में मॉम्स को यूनाईट किया जाता है। आईएमएमओ ग्रुप से देश की आठ हजार मॉम्स जुड़ी हैं।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.