विविधता पर गर्व है, भारत के लिए विनाशकारी होगी एकरूपता-राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी

pranab-mukherjee

दार्जिलिंग: भारत की विशाल विविधता का जिक्र करते हुए राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कहा कि देश में कोई एक स्वरूप या एकरूपता विनाशकारी होगी। दार्जिलिंग में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए राष्ट्रपति ने देश की बहुजातीय संस्कृति पर जोर दिया।

राष्ट्रपति ने कहा, ‘हम अपनी विविधता पर गर्व करते हैं। हम एक ही स्वरूप या एकरूपता लाने की कोशिश इसलिए नहीं करते क्योंकि हम जानते हैं कि यह हमारे सामाजिक प्रगति एवं विकास के लिए सबसे ज्यादा विनाशकारी होगा। विविधता में एकता ही हमारी ताकत है। हम अपने राष्ट्रीय बंधन में एकजुट हैं।’

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.