सिग्नल बोलेगा कब चलना है और कब रुकना है

Traffic_Signals_s

दृष्टिहीनों और दृष्टिबाधितों को अब चौराहा पार करने में दिक्कत नहीं होगी। सिग्नल खुद ‘बोलेंगे’ कि कब उन्हें रुकना है और कब चलना है। इसके लिए अलग से रास्ता भी बनाया जाएगा, जिससे दुर्घटना की आशंका न के बराबर हो।
आम तौर पर दृष्टिहीन या दृष्टिबाधित व्यक्ति को भीड़भरे चौराहे पार करने में काफी दिक्कत आती है। उसे पता नहीं रहता है कि सिग्नल लाल है या हरा। वाहनों के बीच से निकलने में दुर्घटना का अंदेशा बना रहता है। इन परेशानियों को दूर करने के लिए सुगम्य चौराहे बनाए जाएंगे। सिग्नल के लाल या हरा होते समय आवाज आएगी। निर्बाधा प्रोजेक्ट के तहत दिव्यांगों के लिए यह नया प्रोजेक्ट तैयार किया गया है।
इसके तहत चौराहों पर जेब्रा क्रॉसिंग से 2 फीट दूर विशेष पथ बनाए जाएंगे। यहां हाथ में छड़ी और व्हीलचेयर के संकेत होंगे। संकेत के 2 फीट की दूर तक कोई वाहन नहीं आ सकेगा। निर्बाधा प्रोजेक्ट के प्रभारी भरतसिंह गौर ने बताया कि सभी एनजीओ के माध्यम से दृष्टिबाधितों को इस प्रोजेक्ट की सूचना दी जाएगी। कलेक्टर ने निगमायुक्त को पहले एक चौराहे पर यह प्रयोग करने के लिए कहा है। इसके बाद सभी चौराहों पर यह व्यवस्था लागू की जाएगी।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.