जेटली ने राज्यसभा में GST संशोधन बिल किया पेश

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

jaitely_147021436582_650x425_080316022357

आम नागरिकों और सरकार के लिए भी फायदेमंद माना जाने वाला गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) बिल आज राज्यसभा में पेश हो गया.वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इसे सदन के सामने रखा. जेटली ने जीएसटी को बीते एक दशक का सबसे महत्वपूर्ण कर सुधार करार दिया|
जेटली ने बताया कि जीएसटी से भारत एक समान मार्केट में बदल जाएगा. जेटली ने यह भी कहा कि राज्यसभा ने जीएसटी बिल को सिलेक्ट कमेटी को सौंपा था. जेटली ने कहा कि ज्यादातर दलों में इस बिल को लेकर सहमति बन गई है. उन्होंने कहा कि इससे देश में बड़ा बदलाव आएगा. जेटली ने कहा कि वे सभी पार्टियों के आभारी हैं. इतना ही नहीं जेटली ने कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजद का भी शुक्रिया अदा किया|
फिलहाल लोगों को 30 से 35 प्रतिशत तक टैक्स भरना पड़ता है. लेकिन जीएसटी लागू हो जाने से लोगों को लगभग इसका आधा यानी 17 से 18 फीसदी तक ही टैक्स देना पड़ेगा. जीएसटी लागू हो जाने से एक्साइज टैक्स, सर्विस टैक्स, वैट, सेल्स टैक्स, एंटरटेनमेंट टैक्स और लग्जरी टैक्स खत्म हो जाएगा|
गौरतलब है कि जीएसटी की नींव 16 बरस पहले वाजपेयी सरकार ने डाली थी. 360 डिग्री में घुमते हुए बुधवार को राज्यसभा में पास होने की उम्मीद है, क्योंकि 16 साल पहले वाजपेयी सरकार अल्पमत में थी तो पेश नहीं कर सकी और साल 2009 में मनमोहन सरकार ने कोशिश की, तो गैर-कांग्रेसी शासित राज्यों ने विरोध कर दिया. अब केंद्र और ज्यादातर राज्यों में बीजेपी की बहुमत वाली सरकारें हैं, तो राज्यसभा में कांग्रेस को साथ लेने के लिए मोदी सरकार अपने रुख थोड़े नरम किए. जिसके बाद कांग्रेस से सहमति बन गई|
जीएसटी लागू होने के बाद दो से तीन बरस तक महंगाई बढ़ भी सकती है. वैसे सरकार का दावा है कि जीएसटी लागू होने के बाद ग्रोथ रेट में 2% का इजाफा होगा. हालांकि सच यह भी है कि पूरी दुनिया में जीएसटी लागू करने के बाद हुए चुनावों में कोई भी सरकार दोबारा नहीं चुनी गई है, क्योंकि शुरुआती सालों में कुछ चीजें महंगी हो जाती हैं, इसका खमियाजा सरकार को भुगतना पड़ता है|

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.