दीपा करमाकर ने वाल्ट फाइनल में पहुंचकर रचा इतेहास

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

deepa-karmkar-rio-olympic_08_08_2016

52 साल बाद ओलिंपिक खेलों की जिम्नास्टिक स्पर्धा में दीपा करमाकर ने इतिहास रच दिया है। वह पहली भारतीय महिला एथलीट के तौर पर प्रवेश कर पहले ही इतिहास बना चुकी थीं। मगर, जब रविवार को रियो ओलिंपिक के वॉल्ट के फाइनल में प्रवेश किया, तो यह एक और रिकॉर्ड बन गया।
दीपा जिम्नास्टिक की सभी पांच क्वालिफिकेशन सबडिवीजन स्पर्धा के समापन के बाद वॉल्ट में आठवें स्थान पर रहीं। हालांकि, फाइनल में क्वालिफाई करने के लिए आखिरी स्थान था, लेकिन दीपा इसमें जगह बनाने में सफल रहीं।
बचपन से ही संघर्ष कर रहीं दीपा ने रविवार को हुए तीसरी सबडिवीजन क्वालिफाइंग स्पर्धा के वॉल्ट में 14.850 अंक हासिल किए। तीसरे सबडिवीजन की समाप्ति पर दीपा छठे स्थान पर थीं, लेकिन अमेरिका की सिमोन बाइल्स और कनाडा की शैलन ओल्सेन आखिरी के दो सबडिवीजन से फाइनल में प्रवेश करने में सफल रहीं।
कलात्मक जिम्नास्टिक स्पर्धा के क्वालिफिकेशन सबडिवीजन-3 में दीपा का ओवरऑल प्रदर्शन औसत रहा। मगर, वॉल्ट में उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए फाइनल में अपनी जगह पक्‍की की।
दीपा ने वॉल्ट में बेहद कठिन माने जाने वाले प्रोदुनोवा को सफलतापूर्वक अंजाम दिया और रियो-2016 में ऐसा करने वाली वह एकमात्र जिम्नास्ट रहीं। अब दीपा 14 अगस्‍त को वॉल्ट स्पर्धा के फाइनल मुकाबले में पदक की दावेदारी पेश करेंगी।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.