सिंधू ने सवा अरब भारतीयों को दी सिल्वर मेडल की सौगात

20_08_2016-sindhu12

रियो ओलंपिक 2016 में आज बैडमिंटन महिला सिंगल्स का फाइनल मुकाबला खेला गया। इस मैच में भारत की पीवी सिंधू और स्पेन की विश्व नंबर.1 खिलाड़ी केरोलीना मारिन आमने-सामने थीं। करोड़ों भारतीय फैंस की नजरें सिंधू पर टिकी थीं। मैच बेहद रोमांचक हुआ लेकिन अंत में एक घंटा 23 मिनट तक चले मैच में मारिन ने ये मुकाबला 19-21, 21-12, 21-15 से अपने नाम किया। पीवी सिंधू हारीं जरूर लेकिन सिल्वर मेडल जीतकर वो ओलंपिक में ऐसा करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बन गईं।
दुनिया की 10वें क्रम की 21 वर्षीया सिंधु को वर्ल्ड नंबर वन 23 वर्षीया स्पेनिश खिलाडी मारिन के हाथों 21-19, 12-21, 15-21 से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के बावजूद सिंधु ने चांदी की चमक से देश का मान बढ़ाया। उनका यह प्रयास भी इतिहास रच गया, क्योंकि इससे पहले भारत की कोई भी महिला खिलाड़ी ओलिंपिक में रजत पदक नहीं जीत पाई थी।
सिंधु ओलिंपिक में पदक जीतने वाले देश की पांचवीं महिला खिलाड़ी बन गई। उनसे पहले वेटलिफ्टर कर्णम मल्लेश्वरी (सिडनी – 2000), बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल (लंदन – 2012), मु्क्केबाज एमसी मैरी कॉम (लंदन – 2012) और पहलवान साक्षी मलिक (रियो डी जेनेरियो – 2016) ने ओलिंपिक में पदक जीते थे। इन चारों ने कांस्य पदक हासिल किए थे।
सिंधु ने रियो ओलिंपिक में महिला एकल बैडमिंटन में कांस्य पदक हासिल किया। यह भारत का बैडमिंटन में दूसरा पदक है और उसे दोनों पदक महिला खिलाड़ियों ने दिलाए हैं। इससे पहले साइना नेहवाल ने पिछली बार लंदन में कांस्य पदक जीता था।
सिंधु ने रजत पदक जीता जो ओलिंपिक इतिहास में भारत का सातवां रजत पदक है। सबसे पहले नार्मन प्रिचर्ड ने 1900 में पेरिस में एथलेटिक्स में 2 रजत पदक जीते। 1960 रोम ओलिंपिक में भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने रजत पदक जीता। 2004 एथेंस में निशानेबाज राज्यवर्धन सिंह राठौर ने रजत पदक जीता। 2012 में भारत को शूटर विजय कुमार और पहलवान सुशील कुमार ने रजत पदक दिलाए।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.