क्यों दुनिया पर मंडरा रहा जल संकट …जल दिवस पर विशेष रिपोर्ट !!

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हर साल 22 मार्च को विश्व जल दिवस मनाया जाता है. इसे मनाने का मक़सद पानी के महत्व की ओर लोगों का ध्यान खींचना है. इस तस्वीर में ये नन्हें बच्चे ड्रॉइंग के ज़रिए लोगों को पानी बचाने के प्रति जागरूक कर रहे हैं.

इस साल जल दिवस की थीम है – ‘नेचर फ़ॉर वॉटर’. यानी इस बार दुनिया पर मंडरा रहे जल संकट से निपटने के लिए प्रकृति आधारित समाधान तलाशने की कोशिश होगी.

एक अनुमान के मुताबिक 2.1 अरब लोगों को पीने के लिए साफ पानी नहीं मिलता. ये तस्वीर मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल की है जिसमें एक बच्चा नाले से पानी की बोतल भर रहा है और वहीं एक आदमी नहाने के लिए बैठा है.

अहमदाबाद में एक आदमी साबरमती नदी के दूषित पानी से प्लास्टिक की थैली और बोतलें निकाल रहा है. साल 2030 तक दुनिया में हर किसी को सुरक्षित पानी मुहैया कराने की प्रतिबद्धता जताई गई है. इसी के साथ वातावरण को सुरक्षित रखने और प्रदूषण कम करने का टारगेट भी रखा गया है.

भोपाल में एक आदमी कई सारे डब्बे लेकर पानी भरने जा रहा है. झुग्गी-झोपड़ियों में रहने वाले लोग अक्सर वो पानी पीते हैं जो पीने लायक नहीं होता. इस वजह से उन्हें कई बीमारियों से दो-चार होना पड़ता है.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.