वो छोटा सा देश जिसने दुनिया बदल डाली

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

दुनिया में एक देश ऐसा भी है जिसका हम सब की ज़िंदगी में किसी न किसी तरह से वास्ता पड़ा है.

ये देश इतना छोटा है कि दिल्ली की आबादी भी इससे चार-पांच गुना ज़्यादा ही है. मगर इस छोटे से देश ने इंसानियत के काम आने वाली बहुत सी चीज़ें ईजाद की हैं. इस देश को जीनियस का देश कहा जाता है. क्योंकि यहां के लोगों ने इंसानों के काम आनी वाली बहुत सी चीज़ें बनाईं.

इस देश का नाम है स्कॉटलैंड. ये इंग्लैंड का पड़ोसी है और यूनाइटेड किंगडम का हिस्सा.अब ज़रा इस देश की हमारी ज़िंदगी में असर की कुछ मिसालें देखिए.

अगर आपने कैलेंडर या एनसाइक्लोपीडिया इस्तेमाल किया है, तो आपने स्कॉटलैंड के लोगों की अक़्लमंदी का फ़ायदा उठाया है. अगर आपने टॉयलेट का फ़्लश चलाया है, फ्रिज का इस्तेमाल किया है, साइकिल चलाई है, तो इसके लिए आपको स्कॉटलैंड के लोगों का शुक्रिया कहना चाहिए.

स्कॉटलैंड की देन

अगर आपकी सर्जरी हुई है और सर्जरी के वक़्त आपको दर्द का ज़रा भी एहसास नहीं हुआ, तो इसके लिए आपको स्कॉटलैंड का शुक्रगुज़ार होना चाहिए.

भाप की ताक़त पहचान कर इंजन बनाने वाले जेम्स वॉट भी यहीं के थे. और अर्थशास्त्र को अलग विषय के तौर पर स्थापित करने वाले एडम स्मिथ भी स्कॉटिश थे.

कहने का मतलब ये कि अक़्लमंदी और क्रिएटिविटी के मैदान में स्कॉटलैंड ने इतनी बाज़ियां मारी हैं कि गिनना मुश्किल है.

आप कभी स्कॉटलैंड जाएं, तो वहां का माहौल, वहां की आबो-हवा और रहन-सहन आपको इस देश के बेहद ख़ास होने का एहसास कराते हैं.

स्कॉटलैंड बेहद छोटा सा देश है. मगर जीनियस लोगों की लिस्ट में शायद सबसे ज़्यादा नाम इसी देश के लोगों के होंगे. यहां पर इयान रैंकिन जैसे रहस्यमयी लेखक हुए, तो, एलेक्ज़ेंडर मैक्काल स्मिथ जैसे नंबर 1 लेडीज़ डिटेक्टिव एजेंसी सीरीज लिखने वाले भी हुए.

स्कॉटलैंड में सिलिकॉन ग्लेन नाम की जगह भी है, जहां आज की तारीख़ में हाई टेक रिसर्च हो रही है. यहीं पर बनावटी हाथ-पैर की नई पीढ़ी का ईजाद किया गया, जिसे आप ऐप के ज़रिए चला सकते हैं.

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.