*जो मनीष सिंह नहीं कर पाए वह आशीष सिंह ने कर दिखाया*

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मनीष सिंह ने इंदौर नगर निगम आयुक्त रहते हुए अच्छे-अच्छे अधिकारियों और कर्मचारियों को पटरी पर लाने का काम किया ।अधिकारी और कर्मचारी रात दिन उनके एक इशारे पर खड़े रहते थे। जिन अधिकारियों ने निगम में कभी भी काम नहीं किया उनसे भी मनीष सिंह ने काम कराया। लेकिन तब भी मनीष सिंह नर्मदा प्रोजेक्ट के कार्यपालन यंत्री संजीव श्रीवास्तव की कार्यप्रणाली को नहीं सुधार पाए। कई बार सार्वजनिक रूप से भी मनीष सिंह ने यह स्वीकार किया कि मैंने निगम में लगभग सभी को ठीक कर दिया लेकिन संजीव श्रीवास्तव से हार मान ली। कल निगम आयुक्त आशीष सिंह ने वह काम कर दिया जो मनीष सिंह भी नहीं कर पाए। आशीष सिंह प्रारंभ से ही संजीव श्रीवास्तव की कार्यप्रणाली से काफी खफा थे । वहीं अपर आयुक्त संदीप सोनी के पास जल यंत्रालय आने के बाद यह तल्खी और बढ़ती चली गई। पानी बेचते हुए पकड़े गए टैंकर के मामले में संजीव श्रीवास्तव ने टैंकर मालिक का बचाव करने से निगम आयुक्त खफा थे। पिछले दिनों अपर आयुक्त सोनी ने कोई आवश्यक फाइल जल्द लेकर आने को कहा था । संजीव श्रीवास्तव उक्त फाइल लेकर जब निगम पहुंचे तब तक संदीप सोनी वहां से जा चुके थे। इस पर संदीप सोनी काफी खफा हो गए। एक अधीनस्थ अधिकारी द्वारा देरी का कारण पूछने पर श्रीवास्तव का जवाब था कि मैं कोई उनकाचपरासी नहीं हूं जो फाइल लेकर खड़ा रहूंगा। इस घटना ने आग में घी डालने का काम किया और अंततः निगमायुक्त आशीष सिंह ने संजीव श्रीवास्तव को टेंचिंग ग्राउंड का रास्ता दिखा दिया। लेकिन यह माना जा रहा है कि संजीव श्रीवास्तव की पहुंच इतनी ज्यादा है कि शीघ्र ही उनकी नर्मदा प्रोजेक्ट में कार्यपालन यंत्री के रूप में वापसी होगी।

    'No new videos.'

Leave a Reply

Your email address will not be published.