पैर के पंजो के दर्द से छुटकारा कैसे पाए

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

पैर के पंजे मे दर्द के उपाय

पैर के दर्द के उपचार में गर्म और ठंडे पानी का इलाज बेहद प्रभावी होता है। गर्म उपचार रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है और ठंडे पानी पैरों की सूजन को कम करता है।

गर्म और ठंडे पानी का इस्तेमाल कैसे करें

एक बाल्टी में ठंडा पानी भरें और दूसरी बाल्टी में गर्म पानी भरें। अब एक आरामदायक कुर्सी पर बैठ जाएँ और अपने पैरों को तीन मिनट के लिए गर्म पानी में रख दें और यही प्रक्रिया समान रूप से ठंडे पानी के साथ दस सेकेंड्स तक करें या फिर कुछ मिनट तक। इस प्रक्रिया को ऐसे ही दो से तीन मिनट तक करते रहें और आखिर में अपने पैरों को ठंडे पानी में दाल दें।

इसके आलावा आप अपने पैरों में गर्म कपडा या ठंडा बैग भी दस मिनट के लिए लगाकर रख सकते हैं।

सिरका है परों के दर्द के लिए फायदेमंद

सिरका का उपयोग विभिन्न उपचारों में किया जाता है और मोच या खिचाव के कारण होने वाले दर्द से भी राहत मिलती है।

सिरका का इस्तेमाल करें दो तरीकों से

पहला तरीका
एक बाल्टी में गर्म पानी भरें। दो चम्मच सिरका उसमे मिलाएं।आप इसमें समुंद्री नमक या सेंधा नमक भी मिला सकते हैं।
अगर आपके पास इनमे से किसी भी प्रकार का नमक उपलब्ध नहीं है तो आप साधारण नमक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

अब अपने पैरों को इसमें बीस मिनट तक डालें रखें।

दूसरा तरीका
इसके अलावा दो अलग अलग बाल्टी में गर्म और ठंडा पानी लें और उन दोनों में सिरका बराबर मात्रा में डाल दें।

अब गर्म पानी में तौलिया डालें और उसे कसके निचोड़ लें।

फिर इस तौलिये को पैरों में लगाएं।

पांच मिनट के लिए तौलिये को लपेटे रखें।
यही प्रक्रिया समान रूप से ठंडे पानी के साथ भी करें।
इस प्रक्रिया को रोज़ाना तीन से चार बार दोहराएं।

पैरों के दर्द का घरेलू नुस्खा है सेंधा नमक
सेंधा नमक आपके पैरों के दर्द में आराम पहुंचाने में मदद करता है। गर्माहट और सेंधा नमक का संयोजन जो मुख्य रूप से मैग्नीशियम होता है पैर को आराम देने और दर्द को कम करने में मदद करता है।

सेंधा नमक का इस्तेमाल कैसे करें !

एक गर्म पानी की बाल्टी में दो या तीन चम्मच सेंधा नमक की चम्मच डालें।

अब अपने पेरो को उसमे 10 से 15 के लिए ऐसे ही रखें।
इस नमक के इस्तेमाल से आपके पैर ड्राई हो सकते हैं इसलिए इस्तेमाल के बाद पाने पैरों में मॉइस्चराइज़र लगाना न भूलें

पैरों के दर्द में बर्फ है लाभकारी
बर्फ की थेरेपी आपको पैरों के दर्द और सूजन से राहत दिलाने में मदद करती है। बर्फ को क्रश करने के बाद इसे किसी कपडे में बाँध लें और फिर इसे अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं। बर्फ आपके पैरों की नसों को सुन्न करदेगा जिससे आपका दर्द और सूजन गायब हो जाएंगे। आइस पैक को दस मिनट से ज़्यादा लगाकर न रखें। ज़्यादा उपयोग आपकी तंत्रिकाओं और त्वचा को नुकसान पंहुचा सकता है।

लौंग का तेल है पैरों के दर्द के लिए गुणकारी
लौंग का तेल सिरदर्द, जोड़ों के दर्द, एथलीट फुट, नाख़ून संक्रमण और पैर के दर्द के उपचार में अत्यधिक प्रभावी है क्योंकि इससे संचलन बढ़ाने में मदद मिलती है।

लौंग का तेल का इस्तेमाल कैसे करें
जल्दी राहत पाने के लिए अपने पैरों में लौंग के तेल से मसाज करें।
इससे आपके रक्त का प्रवाह बढ़ेगा और मांसपेशियों को भी आराम मिलेगा।
पूरे दिन में कई बार आप अपने पंजों और एड़ियों को लौंग के तेल से मसाज कर सकते हैं।
अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो तीन बूँद लौंग के तेल में एक चम्मच नारियल का तेल या जैतून का तेल मिलाकर लगा सकते है

सरसों के बीज है पैरों के दर्द में सहायक
सरसों के बीज का इस्तेमाल भी पैरों के दर्द के लिए किया जाता है। यह शरीर से विषाक्त पानी बाहर निकालते हैं, रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं और सूजन को भी कम करते हैं। इस प्रकार आपको दर्द और सूजन से राहत मिलती है।

सरसों के बीज का इस्तेमाल कैसे करें
सरसो के बीज की कुछ मात्रा को सबसे पहले पीस लें फिर उसे गर्म पानी की बाल्टी में डाल दें।
अब उसमे अपने पैरों को 10 से 15 मिनट के लिए रखें।
इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार करें।

पैरों के दर्द में तेल है उपयोगी

नीलगिरी तेल, पुदीने का तेल और रोजमेरी का तेल दर्द और सूजन जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करेंगे।

पैर के पंजे मे दर्द के उपाय

पैर के दर्द के उपचार में गर्म और ठंडे पानी का इलाज बेहद प्रभावी होता है। गर्म उपचार रक्त के प्रवाह को बढ़ाता है और ठंडे पानी पैरों की सूजन को कम करता है।

गर्म और ठंडे पानी का इस्तेमाल कैसे करें

एक बाल्टी में ठंडा पानी भरें और दूसरी बाल्टी में गर्म पानी भरें। अब एक आरामदायक कुर्सी पर बैठ जाएँ और अपने पैरों को तीन मिनट के लिए गर्म पानी में रख दें और यही प्रक्रिया समान रूप से ठंडे पानी के साथ दस सेकेंड्स तक करें या फिर कुछ मिनट तक। इस प्रक्रिया को ऐसे ही दो से तीन मिनट तक करते रहें और आखिर में अपने पैरों को ठंडे पानी में दाल दें।

इसके आलावा आप अपने पैरों में गर्म कपडा या ठंडा बैग भी दस मिनट के लिए लगाकर रख सकते हैं।

सिरका है परों के दर्द के लिए फायदेमंद

सिरका का उपयोग विभिन्न उपचारों में किया जाता है और मोच या खिचाव के कारण होने वाले दर्द से भी राहत मिलती है।

सिरका का इस्तेमाल करें दो तरीकों से

पहला तरीका
एक बाल्टी में गर्म पानी भरें। दो चम्मच सिरका उसमे मिलाएं।आप इसमें समुंद्री नमक या सेंधा नमक भी मिला सकते हैं।
अगर आपके पास इनमे से किसी भी प्रकार का नमक उपलब्ध नहीं है तो आप साधारण नमक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

अब अपने पैरों को इसमें बीस मिनट तक डालें रखें।

दूसरा तरीका
इसके अलावा दो अलग अलग बाल्टी में गर्म और ठंडा पानी लें और उन दोनों में सिरका बराबर मात्रा में डाल दें।

अब गर्म पानी में तौलिया डालें और उसे कसके निचोड़ लें।

फिर इस तौलिये को पैरों में लगाएं।

पांच मिनट के लिए तौलिये को लपेटे रखें।
यही प्रक्रिया समान रूप से ठंडे पानी के साथ भी करें।
इस प्रक्रिया को रोज़ाना तीन से चार बार दोहराएं।

पैरों के दर्द का घरेलू नुस्खा है सेंधा नमक
सेंधा नमक आपके पैरों के दर्द में आराम पहुंचाने में मदद करता है। गर्माहट और सेंधा नमक का संयोजन जो मुख्य रूप से मैग्नीशियम होता है पैर को आराम देने और दर्द को कम करने में मदद करता है।

सेंधा नमक का इस्तेमाल कैसे करें !

एक गर्म पानी की बाल्टी में दो या तीन चम्मच सेंधा नमक की चम्मच डालें।

अब अपने पेरो को उसमे 10 से 15 के लिए ऐसे ही रखें।
इस नमक के इस्तेमाल से आपके पैर ड्राई हो सकते हैं इसलिए इस्तेमाल के बाद पाने पैरों में मॉइस्चराइज़र लगाना न भूलें

पैरों के दर्द में बर्फ है लाभकारी
बर्फ की थेरेपी आपको पैरों के दर्द और सूजन से राहत दिलाने में मदद करती है। बर्फ को क्रश करने के बाद इसे किसी कपडे में बाँध लें और फिर इसे अपने प्रभावित क्षेत्रों पर लगाएं। बर्फ आपके पैरों की नसों को सुन्न करदेगा जिससे आपका दर्द और सूजन गायब हो जाएंगे। आइस पैक को दस मिनट से ज़्यादा लगाकर न रखें। ज़्यादा उपयोग आपकी तंत्रिकाओं और त्वचा को नुकसान पंहुचा सकता है।

लौंग का तेल है पैरों के दर्द के लिए गुणकारी
लौंग का तेल सिरदर्द, जोड़ों के दर्द, एथलीट फुट, नाख़ून संक्रमण और पैर के दर्द के उपचार में अत्यधिक प्रभावी है क्योंकि इससे संचलन बढ़ाने में मदद मिलती है।

लौंग का तेल का इस्तेमाल कैसे करें
जल्दी राहत पाने के लिए अपने पैरों में लौंग के तेल से मसाज करें।
इससे आपके रक्त का प्रवाह बढ़ेगा और मांसपेशियों को भी आराम मिलेगा।
पूरे दिन में कई बार आप अपने पंजों और एड़ियों को लौंग के तेल से मसाज कर सकते हैं।
अगर आपकी त्वचा संवेदनशील है तो तीन बूँद लौंग के तेल में एक चम्मच नारियल का तेल या जैतून का तेल मिलाकर लगा सकते है

सरसों के बीज है पैरों के दर्द में सहायक
सरसों के बीज का इस्तेमाल भी पैरों के दर्द के लिए किया जाता है। यह शरीर से विषाक्त पानी बाहर निकालते हैं, रक्त परिसंचरण में सुधार करते हैं और सूजन को भी कम करते हैं। इस प्रकार आपको दर्द और सूजन से राहत मिलती है।

सरसों के बीज का इस्तेमाल कैसे करें
सरसो के बीज की कुछ मात्रा को सबसे पहले पीस लें फिर उसे गर्म पानी की बाल्टी में डाल दें।
अब उसमे अपने पैरों को 10 से 15 मिनट के लिए रखें।
इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार करें।

पैरों के दर्द में तेल है उपयोगी

नीलगिरी तेल, पुदीने का तेल और रोजमेरी का तेल दर्द और सूजन जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में मदद करेंगे।

तेल का इस्तेमाल कैसे करें
गर्म पानी की बाल्टी में चार बूँदें नीलगिरी तेल और रोसमारी तेल की डालें और इसके साथ ही इसमें दो बूँदें पुदीने की तेल की भी मिलाएं।
अब उसमे अपने पैरों को दस मिनट के लिए रखें।
इस प्रक्रिया को पूरे दिन में कई बार करें।
अगली बार जब भी आपके पैरों में दर्द हो तो इन घरेलू उपायों का इस्तेमाल ज़रूर करें। अगर तब भी दर्द कम नहीं होता तो अपने डॉक्टर को ज़रूर दिखाएं।

    'No new videos.'